7 खराब खाद्य पदार्थ जो बालों के झडऩे का कारण बन सकते हैं

स्वस्थ, मजबूत और चमकदार बाल पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए वांछनीय हैं। त्वचा की तरह, स्वस्थ बाल भी शरीर के पोषण का एक संकेतक है। आपके द्वारा किए गए भोजन के विकल्प आपके बालों के लिए या तो नुकसान पहुंचा सकते हैं और चमत्कार भी साबित हो सकते हैं। हम पहले से ही जानते हैं कि तनाव और प्रदूषण हमारे तनावों पर कहर ढाते हैं। पर कुछ खाद्य पदार्थ भी बालों के झडऩे और बालों के पतले होने की समस्या में योगदान दे रहे हैं। आइए नजऱ डालते हैं उन खाद्य पदार्थों पर जिन्हें आपको अपने बालों की खातिर बचना चाहिए। यहाँ 7 खाद्य पदार्थ हैं जो आपको बालों को नुकसान पहुँचा रहे हैं।

1. चीनी

जी हाँ, चीनी आपके बालों के लिए भी उतनी ही बुरी है जितना कि आपके संपूर्ण स्वास्थ्य के लिए। अध्ययनों से पता चला है कि चीनी पुरुषों और महिलाओं दोनों में गंजे होने का कारण बन सकती है।

2. हाई-ग्लाइसेमिक इंडेक्स फूड्स
उच्च ग्लाइसेमिक इंडेक्स वाले खाद्य पदार्थ हैं जो इंसुलिन स्पाइक का कारण बनते हैं। परिष्कृत आटा, रोटी और चीनी जैसे खाद्य पदार्थ सभी उच्च जीआई खाद्य पदार्थ हैं। ये खाद्य पदार्थ हार्मोनल असंतुलन पैदा कर सकते हैं और बालों के झडऩे का कारण बनते हैं।

3. शराब

बाल मुख्य रूप से प्रोटीन से बने होते हैं, जिन्हें केराटिन कहा जाता है। केराटिन एक प्रोटीन है जो आपके बालों को संरचना देता है। शराब प्रोटीन संश्लेषण पर नकारात्मक प्रभाव डालती है और बालों को कमजोर और बिना किसी चमक के ले जा सकती है। इसके अलावा, भारी शराब का सेवन पोषण असंतुलन पैदा कर सकता है और मृत्यु का कारण बन सकता है।

4. डाईट सोडा

डाईट सोडा में एक कृत्रिम स्वीटनर होता है जिसे एस्पार्टेम कहा जाता है, जो शोधकर्ताओं ने पाया है कि यह बालों के रोम को नुकसान पहुंचा सकता है। यदि आप हाल ही में बालों के झडऩे का सामना कर रहे हैं तो यह सबसे अच्छा है कि आप पूरी तरह से डाईट सोडा से बचें।

5. जंक फूड

जंक फूड अक्सर संतृप्त और मोनोअनसैचुरेटेड वसा से भरे होते हैं, जो न केवल आपको मोटापे से ग्रस्त करते हैं और हृदय संबंधी बीमारियों को जन्म देते हैं, बल्कि बालों को खोने का कारण भी बन सकते हैं। इसके अलावा, तैलीय खाद्य पदार्थ आपकी खोपड़ी को चिकना बना सकते हैं और रोम छिद्रों को बंद कर सकते हैं और रोम छिद्रों को छोटा कर सकते हैं।

6. कच्चा अंडा

अंडे बालों के लिए बहुत अच्छे होते हैं लेकिन इनका सेवन कच्चा नहीं करना चाहिए। कच्चे अंडे की सफेदी से बायोटिन की कमी हो सकती है, जो विटामिन केराटिन के उत्पादन में सहायता करता है। यह एविडिन है जो कच्चे अंडे की सफेदी में मौजूद होता है जो बायोटिन के साथ मिलकर अपने आंतों के अवशोषण में बाधा डालता है।

7. मछली

पारा के उच्च स्तर से अचानक बालों के झडऩे हो सकते हैं। पारा एक्सपोजऱ का सबसे आम स्रोत मछली है क्योंकि जलवायु परिवर्तन और अतिवृष्टि के कारण पिछले कुछ दशकों में मछली में मिथाइल-मर्करी की सांद्रता बढ़ी है। सी-वॉटर फिश जैसे स्वोर्डफि़श, मैकेरल, शार्क और टूना की कुछ किस्में पारा से भरपूर होती हैं।

Related Posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *